इस दिग्गज की सलाह के बाद इंग्लैंड की चुनौती पार करेगी भारतीय महिला क्रिकेट टीम! हरमनप्रीत कौर ने कहा- हैं तैयार हम

इस दिग्गज की सलाह के बाद इंग्लैंड की चुनौती पार करेगी भारतीय महिला क्रिकेट टीम! हरमनप्रीत कौर ने कहा- हैं तैयार हम

भारतीय महिला क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) को इंग्लैंड में टेस्ट मैच खेलना है. टीम यह टेस्ट मैच सात साल बाद खेलेगी और टीम की अधिकतर खिलाड़ी ऐसी हैं जिन्हें टेस्ट का ज्यादा अनुभव नही हैं. टीम की उप-कप्तान और स्टार बल्लेबाज हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) ने बताया कि पुरुष टीम के उप-कप्तान और टेस्ट विशेषज्ञ अजिंक्य रहाणे से बात करने के बाद वह खेल के लंबे प्रारूप में इंग्लैंड से मिलने वाली चुनौती के लिए मानसिक रूप से तैयार हैं. भारत और इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीमों के बीच एकमात्र टेस्ट बुधवार से ब्रिस्टल में शुरू होगा जिसके साथ मेहमान टीम के ब्रिटेन के दौरे की शुरुआत होगी. भारत को इस दौरे पर वनडे और टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले भी खेलने हैं.

हरमनप्रीत ने ऑनलाइन प्रेस कॉफ्रेंस में कहा, ‘‘मैंने लाल गेंद से काफी क्रिकेट नहीं खेला है, मैंने सिर्फ दो टेस्ट खेले हैं. इस बार हमें अजिंक्य रहाणे से बात करने का मौका मिला, हमने उनकी बातें सुनकर समझा कि लंबे प्रारूप में कैसे बल्लेबाजी करनी है, हम मानसिक रूप से तैयार हैं.’’

नेट्स पर करती हैं ये काम

हरमनप्रीत सीमित ओवरों के प्रारूप की सफल बल्लेबाज हैं और अब वह पारंपरिक प्रारूप में अपनी छाप छोड़ना चाहती हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हम नेट पर भी सही मानसिकता के साथ उतरने का प्रयास करते हैं. जब आप खुश होते हो तो आप अच्छा क्रिकेट खेलते हो. हम अपने मजबूत पक्षों के अनुसार खेलने का प्रयास करते हैं. हमने रहाणे के साथ बात की, वह काफी अनुभवी हैं, हमने उससे बात करने का मौका मिला और हमने ऐसा किया.’’

रहाणे के साथ बातचीत के बारे में विस्तार से बताते हुए हरमनप्रीत ने कहा, ‘‘रहाणे के पास इतना अधिक अनुभव है जो उन्होंने हमारे साथ बांटा, हमें टिप्स दिए कि कैसे बल्लेबाजी करनी हैं, बल्लेबाजी करते हुए क्या रवैया अपनाना है क्योंकि यह लंबा प्रारूप है और अपनी पारी को टुकड़ों में कैसे बांटा जाए यह अहम है.’’

शेफाली वर्मा के पदार्पण पर कही ये बात

युवा स्टार बल्लेबाज शेफाली वर्मा के टेस्ट पदार्पण की संभावना पर हरमनप्रीत ने कहा कि टीम प्रबंधन को उसके खेल से छेड़छाड़ पसंद नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘शेफाली ऐसी खिलाड़ी है जिसे हम हमेशा खिलाना चाहते हैं, वह ऐसी खिलाड़ी है जो विरोधी पर दबदबा बना सकती हैं. हमने कभी उसके खेल से छेड़छाड़ की कोशिश नहीं की क्योंकि वह स्वाभाविक खिलाड़ी हैं, उसके साथ तकनीक या रणनीति के बारे में काफी अधिक बात करना अच्छा विचार नहीं है.’’

हरमनप्रीत ने कहा, ‘‘हम सभी शेफाली के लिए अच्छी स्थिति तैयार करने का प्रयास करते हैं जिससे कि वह दबाव महसूस नहीं करे और अपने खेल का लुत्फ उठाए. नेट्स पर वह काफी अच्छी लय में लग रही है और उम्मीद करती हूं कि अगर उसे खेलना का मौका मिले तो वह अच्छा प्रदर्शन करे.’’

हालात से सामंजस्य बैठाना अहम

हरमनप्रीत ने कहा कि खिलाड़ियों के लिए ब्रिटेन के हालात से जल्द से जल्द सामंजस्य बैठाना काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि उन्हें लाल गेंद से अभ्यास करने का पर्याप्त मौका नहीं मिला. हरमनप्रीत ने अपने दो टेस्ट में से एक इंग्लैंड में 2014 में खेला था जिसमें भारत ने यादगार जीत दर्ज की थी. इतने लंबे समय के बाद टेस्ट खेलने के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, ‘‘एक बल्लेबाज के रूप में सिर्फ एक ही रवैया है, गेंद को देखो और प्रतिक्रिया दो. मुझे पता है कि मैंने काफी टी20 और एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले हैं, टेस्ट क्रिकेट खेलने का पर्याप्त अनुभव नहीं है लेकिन मुझे पता है कि यह धैर्य और क्रीज पर जितना अधिक संभव को उतना समय बिताने का खेल है.’’

अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी की टीम में भूमिका के बारे में पूछने पर हरमनप्रीत ने कहा, ‘‘वह ऐसी खिलाड़ी हैं जो हमेशा आगे बढ़कर उदाहरण पेश करती है, जब भी हमें जरूरत होती है वह हमें विकेट दिलाती हैं.’’

ये भी पढ़ें-

क्रिकेट मैच देखने आई लड़की को दे दिल दे बैठा ये भारतीय गेंदबाज, महज सात दिन में रचाई शादी, 2011 विश्व कप से है खास कनेक्शन