क्रिकेट जगत के ऐसे 5 गेंदबाज़ जिन्होंने कभी नहीं फेंकी नो बॉल एक भारतीय भी है शामिल

दोस्तों आज के इन लेख में हम बात करने जा रहे हैं क्रिकेट जगत के ऐसे 5 गेंदबाजों के बारे में जिन्होंने कभी नहीं फेंकी नो बॉल एक भारतीय भी है शामिल। तो आईये जानते हैं पूरी जानकारी। पूरी जानकारी पाने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़िए।

क्रिकेट में, नो-बॉल गेंदबाजी को अपराध माना जाता है क्योंकि यह न केवल बल्लेबाजी टीम को अतिरिक्त रन देता है बल्कि गेंदबाज को उसी डिलीवरी को फिर से गेंदबाजी करना पड़ता है, और जबसे फ्री हिट आ गया तब से नो बॉल घनघोर अपराध हो गया है, इसलिए हर गेंदबाज़ कोशिश करता है कि वो नो बॉल न फेके, जिसमें बहुत कम लोग ही कामयाब हो पाते हैं। हालांकि कुछ महानभाव है जिन्होंने ने इसमें कामयाबी पायी है अपने पूरे कैरियर में कभी भी नो बॉल नहीं फेका है-

1. लांस गिब्स:

वेस्टइंडीज की टीम के पूर्व खिलाड़ी लांस गिब्स को टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे सफल स्पिन गेंदबाजों में से एक माना जाता है। वह इंग्लैंड के फ्रेड ट्रूमैन के बाद 300 टेस्ट विकेट लेने वाले दूसरे खिलाड़ी थे और ऐसा करने वाले पहले स्पिनर थे। ऑफ स्पिनर ने अपने करियर में कुल 311 विकेट लेने वाले 79 टेस्ट और तीन ओडीआई खेल चुके हैं।

2. डेनिस लिली:

ऑस्ट्रेलिया की टीम के पूर्व तेज गेंदबाज डेनिस लिली क्रिकेट के महानतम तेज गेंदबाज के रूप में जाना जाता हैं। ऑस्ट्रेलिया टीम के पूर्व तेज गेंदबाज डेनिस लिली टेस्ट क्रिकेट में 350 विकेट लेने वाले पहले बल्लेबाज थे। ऑस्ट्रेलियाई स्पीडस्टर ने सन 1971 में अपना करियर शुरू किया और सन 1984 को विभिन्न फ्रैक्चर के कारण इसे अपना कैरियर समाप्त करना पड़ गया था। उन 13 वर्षों के दौरान, डेनिस लिली ने 70 टेस्ट खेले और 23.92 के औसत से 355 विकेट लिए थे। उनके पास 23 विकेट और 7 टेस्ट विकेट लिए थे। डेनिस लिली ने 63 एकदिवसीय मैचों में ऑस्ट्रेलिया की टीम का भी प्रतिनिधित्व किया और 20.83 के औसत से 103 विकेट अपने नाम किये थे।

3. इयान बॉथम:

इंग्लैंड की टीम के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी इयान बॉथम को महानतम ऑलराउंडर्स में से एक माना जाता है। इयान बॉथम ने इंग्लैंड की टीम के बैट और गेंद दोनों के साथ-साथ ओडीआई और टेस्ट में कमाल करते थे। टेस्ट क्रिकेट के 15 वर्ष के कैरियर के दौरान, उन्होंने 102 मैचों में 28.40 के औसत से 383 विकेट अपने नाम किए। और 33.54 के औसत से 5,200 रन बनाए। इंग्लैंड की टीम के पूर्व खिलाड़ी इयान बॉथम ने 116 एकदिवसीय मैचों में इंग्लैंड टीम की कप्तानी किये थे, 2,113 रन बनाये और 28.54 के औसत से 145 विकेट अपने नाम किये थे।

4. इमरान खान:

उस समय जब पाकिस्तान क्रिकेट टीम की जीत की तुलना में किसी एक खिलाड़ी के प्रदर्शन पर अधिक जोर दिया गया था, तब भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी इमरान खान का आगमन एक क्रांति था। पाकिस्तान की टीम के पूर्व खिलाड़ी इमरान खान ने सन 1982 में कप्तानी संभाली और सन 1987 में भारतीय टीम को हराने के लिए पहले पाकिस्तानी कप्तान बने थे। पाकिस्तान की टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी ने 88 टेस्ट खेले, 3807 रन बनाए और 362 विकेट अपने नाम किये। उन्होंने 3709 रन बनाए और 175 ओडीआई में पाकिस्तान की टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए 182 विकट अपने नाम किये थे।

5. कपिल देव:

भारतीय टीम के पूर्व सबसे महान ऑलराउंडर खिलाड़ी कपिल देव सन 1978 में अपनी टेस्ट शुरुआत की और सन 1983 के वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का नेतृत्व किया था। जिम्बाब्वे की टीम के खिलाफ एक जरूरी जीत में 138 गेंदों पर 175 रनों की पारी खेली जहां उन्होंने 17/5 से 266/8 तक भारतीय टीम को पहुचा दिया था, जिसे सबसे बड़ी ओडीआई पारी में से एक माना जाता है। बाद में वह लॉर्ड्स में फाइनल मुकाबले में वेस्टइंडीज की टीम को हराकर वर्ल्ड कप जीतने वाले पहले भारतीय कप्तान बन गए थे। हरियाणा के पैदा हुए क्रिकेटर ने 131 टेस्ट और 225 ओडीआई खेले, क्रमशः 434 और 253 विकेट लेकर 5248 और 3783 रन अपने नाम किये थे।

तो दोस्तों कैसी लगी यह जानकारी अपना जवाब नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में जरूर दें और साथ ही इस लेख को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के पास शेयर करें और लाइक भी करें। और ऐसी ही रोचक व दिलचस्प खबरों के लिए हमारे न्यूज़ चैनल Cric NEWS1 को फॉलो करें।