भले ही विराट के बल्ले से टेस्ट क्रिकेट में शतक न बन रहे हों, पर बतौर कप्तान विराट कोहली ने कोच रवि शास्त्री के साथ मिलकर टीम इंडिया को कई यादगार जीत दिलाई है

Ravi Shastri On Virat Kohli: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने सोमवार को राष्ट्रीय टीम और कप्तान विराट कोहली की टेस्ट क्रिकेट को अपनाने और ‘पिछले पांच सालों में फॉर्मेट के राजदूत’ होने के लिए तारीफ की. मुंबई में सीरीज के फाइनल टेस्ट में न्यूजीलैंड पर 372 रन की जीत के बाद विश्व टेस्ट चैंपियंस को हराकर टीम इंडिया ने आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया.

भारत की इस जीत के बाद रवि शास्त्री ने कहा, “मुझे लगता है कि अगर कोई टीम पिछले पांच सालों में टेस्ट मैच के लिए एक एंबेस्डर रही है तो यह भारतीय क्रिकेट टीम है. विराट कोहली टेस्ट मैच क्रिकेट की पूजा करते हैं.”

पूर्व कोच रवि शास्त्री ने विराट कोहली और भारतीय टेस्ट टीम की तारीफ करते हुए कहा कि अगर पिछल 5 सालों में एक एंबेसडर के तौर पर खेला है तो वो भारतीय टेस्ट टीम रही है

साथ ही पूर्व कोच रवि शास्त्री ने कहा, ‘विराट कोहली टेस्ट क्रिकेट की पूजा करते हैं और ऐसा ही बाकी टीम के सदस्य भी करते हैं. यह बात बाकी लोगों को हैरान कर सकती है, क्योंकि उन्हें भारत में आईपीएल और वनडे क्रिकेट को तरजीह मिलते दिखती है’.

शास्त्री ने कहा कि आप पूरी टीम से पता करेंगे कि तो 99% कहेंगे कि उनका पसंदीदा फॉर्मेट टेस्ट क्रिकेट है. रवि शास्त्री ने इसी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि शायद इसी वजह से भारतीय टीम पिछले 5 सालों से इस फॉर्मेट में लगातार शानदार प्रदर्शन भी कर रही है.

भारतीय टेस्ट टीम का प्रदर्शन हालिया मौकों पर टेस्ट क्रिकेट में काफी शानदार रहा है. भारत ने कोच रवि शास्त्री के रहते हुए ऑस्ट्रेलिया में 2 बार टेस्ट सीरीज अपने नाम की है. वहीं, इंग्लैंड में भी टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया 2-1 से आगे रही. सीरीज का आखिरी टेस्ट अगले साल खेला जाना है. रवि शास्त्री ने खुद बतौर कोच रहते हुए टीम इंडिया की उपलब्धियों को गिनाया.

शास्त्री ने कहा कि भले ही हम टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल हार गए हों, लेकिन टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीत दर्ज की है और हमने इग्लैंड में भी शानदार किया है.