IND vs ENG : इस वजह से रद्द हुआ भारत-इंग्लैंड के बीच आख़िरी टेस्ट, सौरव गांगुली ने बताई वजह 

भारत और इंग्लैंड के बीच मैनचेस्टर में खेले जाने वाले पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच के रद्द होने के पीछे कई तर​ह की दलीलें दी जा रही है। मीडिया में जारी खबरों में पहले तो कहा गया कि असिस्टेंड फीजियो योगेश परमार के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भारतीय टीम ने खेलने से मना कर दिया था। हालांकि इसके बाद इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टॉम हैरिसन ने टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री पर अपनी टीम में कोरोना फैलाने का आरोप लगाया क्योंकि शास्त्री कुछ दिन पहले अपनी पुस्तक का विमोचन करने के लिए लंदन गए थे। लेकिन शास्त्री ने इस पूरे मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए इससे इनकार कर दिया। भारतीय क्रिकेट टीम चौथे टेस्ट मैच तक 2-1 से आगे थी। भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवें टेस्ट मैच के रद्द होने को लेकर अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने एक नया बयान दिया है।

sourav ganguly

गांगुली ने पूरे मामले पर अब अपनी चुप्पी तोड़ते हुए भारत और इंग्लैंड के बीच रद्द हुए पांचवें टेस्ट मैच के पीछे की असली वजह बताई है। गांगुली ने द टेलीग्राफ के साथ बातचीत में आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया कि भारतीय टीम के खिलाड़ियों ने मैच खेलने से इनकार कर दिया था और इसी वजह से सीरीज के पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच को रद्द किया गया।

बड़ी खबर ! विराट कोहली छोड़ेंगे कप्तानी, ये खिलाड़ी हो गया अब तैयार

गांगुली ने कहा, ‘खिलाड़ियों ने खेलने से मना कर दिया लेकिन इसके लिए आप उन्हें दोष नहीं दे सकते। फिजियो योगेश परमार खिलाड़ियों के इतने करीबी थे। नितिन पटेल के खुद को आइसोलेशन में जाने के बाद उनके पास केवल एक ही विकल्प उपलब्ध था। वह खिलाड़ियों के साथ स्वतंत्र रूप से घुलमिल गए और यहां तक ​​​​कि उनके कोविड-19 टेस्ट भी किए गए। वह उन्हें मालिश भी देता था, वह उनकी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा था।

ओलंपिक गोल्ड के बाद नीरज चोपड़ा का एक और सपना हुआ पूरा, ट्वीट कर दी जानकारी

पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि फिजियो के कोरोना पॉजिटिव के बाद खिलाड़ी भी पूरी तरह से डरे हुए थे। उन्होंने कहा, ‘ खिलाड़ी डर गए जब उन्हें पता चला कि वह (टीम फिजियो) कोविड-19 टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें डर था कि वह शायद वे भी इस बीमारी की चपेट में आ गए हैं और वे डरे हुए थे। बायो बबल में रहना आसान नहीं है। बेशक, आपको उनकी भावनाओं का सम्मान करना होगा।’

बीसीसीआई अध्यक्ष का मानना है कि वे अभी इस मामले में और इंतजार कर रहे हैं और उसके बाद ही रद्द हुए मैच पर कोई चर्चा हो सकती है। ईसीबी के सीईओ की तरह, गांगुली ने भी स्वीकार किया कि अगर एकतरफा टेस्ट खेला जाता है तो भी यह सीरीज जारी नहीं रहेगी। उन्होंने कहा, ‘ ओल्ड ट्रैफर्ड टेस्ट रद्द कर दिया गया है। उन्हें काफी नुकसान हुआ है और इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के लिए यह आसान नहीं होगा। चीजों को थोड़ा शांत होने दें, फिर हम चर्चा कर सकते हैं और निर्णय ले सकते हैं। जब भी यह अगले साल आयोजित किया जाता है, तो केवल टेस्ट मैच होना चाहिए क्योंकि अब यह सीरीज और ज्यादा नहीं चल सकती।’